आसमान में बिजली क्यों कड़कती है। जाने हिंदी में।

आसमान में बिजली क्यों कड़कती है। और आसमानी बिजली ज़मीन पर क्यों गिरती हैं।

ऐसे बहुत से सवाल आपके मन में जरुर आते होगे।  आईये हम आपको इसके पीछे के विज्ञान के बारे में बताते है।

बरसात के मौसम में बादलों में बिजली का कड़कना और जमीन पर बिजली गिरना आम बात है। ये बिजली इंसानो के लिए काल बन कर आती है। इसे कोई रोक नहीं सकता। केवल बचाव कर सकते है। अगर कुछ बातो का ध्यान रखे तो .

बादलो में बिजली क्यों कड़कती है ?

बादलो से बिजली गिरने के पीछे एक natural प्रक्रम काम करता है। गर्मीयो के मौसम में घरती और हवा दोनों गर्म हो जाते है। जिससे हमारे वातावरण में water vapour (पानी की छोटी बुँदे) का निर्माण होता है। और वह गर्म हवा के साथ ऊपर जाते हुए वायुमंडल (atmosphere) में इकट्ठे होते चले जाते है।

ये पानी की छोटी छोटी बुँदे एक साथ मिलकर एक काले बादल के रूप में हमें दिखाई देती है। और जब वायुमण्डल का तापमान (temperature) धीरे धीरे कम होना शुरू होता है। तो ये (water vapour) बर्फ के टुकड़े में बदल जाते है।  अब ये बर्फ के छोटे छोटे टुकड़े आपस में टकराते रहते है। जिससे बादलो में बिजली उत्पन होती है।

आपने पढ़ा होगा की जब हम दो वस्तुओं (Particles) को आपस में टकराते एवम रगड़ते हें। तो बिजली उत्पन्न होती है। इसी तरह बर्फ के टुकड़े जब बड़ी मात्रा में आपस में टकराते है।  तो उसी कारण आसमान में बहुत ज्यादा मात्रा में बिजली उत्पन्न हो जाती हे।

बिजली के कारण बादलो में Negative charge निचे की तरफ और Positive charge ऊपर की तरफ रहता है। जब एक बादल में नीचे की तरफ से negative charge और ऊपर की तरफ से positive charge आपस में टकराते है। या जब दो अलग अलग बदलो के बीच Negative charge और Positive charge  आपस में टकराते है।  तो इनके आपस में टकराने से ही बिजली चमकती है। तभी हम कहते हें। देखो आसमान में बिजली चमक रही है।

यहां पढ़े : ऑनलाइन फ्रॉड से कैसे बचे। 

बिजली जमीन पर क्यों गिरती है ?

जैसा की ऊपर बताया गया हें। बादलों में बिजली कैसे उत्पन्न होती हें। बिजली को पास होने के लिए एक कंडक्टर (conductor) जिसके अन्दर से बिजली पास हो सके की जरुरत पड़ती हें। इसी वैज्ञानिक सिद्धांत के कारण ही बिजली जमीन पर गिरती है।

बादल में उत्पन्न Negative charge जमीन पर खड़े किसी भी Positive charge के साथ attract होकर lighting volt बनाता है। “postive charge से मतलब हें की कोई भी जीवित प्राणी (जैसे : मनुष्य , पशु , पक्षी इत्यादि) या वस्तु जिसमे में बिजली पास हो सके”

जिसके कारण आसमान से उत्पन्न बिजली जमीन की तरफ आ जाती है। और जिस भी वस्तु के साथ यह वोल्ट बनाती है।  उसको जला देती हे। तो इसी प्रक्रम को बिजली का गिरना कहते है।

जमीन पर गिरते वक्त इसका temperature सूर्य की ऊपरी सतह के temperature से भी ज्यादा ज्यादा होता है। और यह बिजली केवल कुछ मिली सेकंड तक ही जमीन पर रहती है। लेकिन इससे होने वाले जान माल के नुकसान का अंदाज़ा लगाना भी मुश्किल हें।

 

महेंद्र सिंह धोनी  शानदार खिलाडी यहां पढ़े 

आसमानी बिजली से सुरक्षा के उपाय।

जब भी बादलो से बिजली के कड़कने की आवाज आये तो हम रबड़ , टायर या फॉम का इस्तेमाल इससे बचाब के लिए कर सकते है।

ध्यान रहे बिजली कड़कते समय पेड के नीचे या खुले मैदान में जाने से बचे। अगर आप खेतों में या खुले मैदान में हो तो किसी सुखी जगह ऐड़ी मिला कर बैठ जाये। या हो सके तो किसी बिल्डिंग के आस पास खड़े हो जाये।

आसमानी बिजली औरतो से ज्यादा पुरुषो को ज्यादा नुकसान पहुँचाती है।

जब भी बादलो से बिजली के कड़कने की आवाज आये घर के Modem, TV, Computer,  आदि के Electrical plug को तुरंत बंद करे। और Electrician से घर में Lightning shock अवश्य लगवाए।

पानी या किसी भी वस्तु जिसमे करंट flow हो सकता हे। तो उससे दूर ही रहे। अगर आप नाव सफर कर रहे हो तो तुरंत बहार आ जाये।

हमारे देश में गांव देहात में हर साल बरसात के मौसम में सैकड़ो लोग इस तरह की प्राकर्तिक बिजली गिरने की घटनाओ का शिकार होते है।  हमारी सरकारें कई प्रकार से लोगो को इससे बचने के उपाय के बारे में अवगत कराती है। ये हम लोगो की भी जिम्मेदारी बनती है। इस आपदा से कैसे बचाव कर सकते हें के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगो को अवगत कराये।

 

 

Leave a Comment