Nibandh on sikkim in hindi सिक्किम पर निबंध

Nibandh on sikkim in hindi , nibandh on sikkim , sikkim par nibandh , sikkim project ,सिक्किम पर निबंध

भारत देश अलग अलग राज्यों से बना हुआ देश है। जहाँ हर राज्य अपनी प्राकृतिक ख़ूबसूरती , संस्कृति , इतिहास के लिए जाना जाता है। यह प्रदेश पुरे विश्व में अपनी मनोरम प्राक्रतिक दृश्य के लिए जाना जाता है।

सिक्किम की राजधानी गंगटोक है , यहाँ स्तिथ कंचनजंगा राष्ट्रीय उद्यान को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्जा मिला हुआ है

सिक्किम राज्य की सीमाएं

भारत के दक्षिण क्षेत्र में स्तिथ सिक्किम राज्य चारों तरफ से पहाड़ो से घिरा हुआ है।

  • सिक्किम के पश्चिम में हिमालय की पर्वतमाला की बड़ी बड़ी चोटियाँ है।
  • सिक्किम दक्षिण में बंगाल राज्य की सीमा से घिरा हुआ है।
  • दक्षिण पूर्वी में अंतरराष्ट्रीय सीमा भूटान से मिलता है।
  • पश्चिम में अंतरराष्ट्रीय सीमा नेपाल से मिलती है।

सिक्किम का इतिहास

सिक्किम का प्राचीन इतिहास का लिखित वर्णन 8वीं सदी से देखने को मिलता है। जब सिक्किम के आध्यात्मिक गुरु पद्मा संभाभा ( गुरु रिनपोचे ) ने सिक्किम आकर बौद्ध धर्म का प्रचार किया था।

17 वी शताब्दी में लेपचा नामक राजा ने सिक्किम पर आक्रमण बोल दिया। उस समय सिक्किम पर राजशाही शासन था। जब ब्रिटिश भारत देश पर अपना शासन कर रहे तो सिक्किम पहुंचने पर यहाँ के सम्राट ने ब्रिटिश के साथ गठबंधन कर लिया। लेकिन 1947 की आजादी के बाद सिक्किम भारत देश के हिस्से में आ गया था।

1975 में सिक्किम को राज्य का दर्जा दिया गया और यह भारत का अभिन्न अंग बन गया यहाँ निवास करने वाली प्रमुख जनजाति को उनकी पहचान दी गई

  • लेपचा जाति के निवासी को यहां का मूल निवासी माना गया।
  • भूटिया समूह को दूसरा बड़ा समूह माना गया।
  • तीसरा सबसे बड़ा समूह नेपाल समुदाय का है।

सिक्किम राज्य एक छोटा सा प्रदेश है यहां की जनसंख्या 6 से 7 लाख से ज्यादा नहीं है।

click here : Sikkim Project in hindi (सिक्किम राज्य पर निबंध )

सिक्किम राज्य संस्कृति

सिक्किम अपनी सुंदरता के लिए सारे विश्व में प्रसिद्ध है। यहां पर ऊंचे ऊंचे पहाड़ और चारों ओर फैली हरियाली प्रकृति को और सुंदर बनाती है। यहां इस सुंदरता को देखने लाखों लोग दूर दूर से आते हैं। सिक्किम को प्रकृति ने बहुत सुन्दर तरीके से सजाया है।

सिक्किम की संस्कृति हिंदू धर्म और बौद्ध धर्म से मिलकर बनी है। यहां के लोग बौद्ध धर्म को मानते हैं। इनके त्यौहार सरल और रंगीन बड़े होते हैं। सिक्किम में बोड़ उत्सव बड़े अच्छे ढंग से मनाया जाता है। लामा द्वारा सिक्किम का मुखौटा वाला नृत्य भारत में रंगीन नृत्यो में माना जाता है। यहां के लोक संगीत की झलक भोजनालय, शहरी घरों में देखी जा सकती है।

सिक्किम में गर्मी का मौसम बहुत ही आरामदायक होता है।  क्योंकि यहां पर तापमान 29 डिग्री से ज्यादा नहीं होता है। सिक्किम का एक तिहाई हिस्सा जंगलों से घिरा हुआ है। यहाँ पर ज्यादातर हिस्सा पहाड़ी से ढ़का हुआ है।  इसका क्षेत्रफल करीब 7000 वर्ग किलोमीटर है।

यहां पर लेपचा ,भूटिया और नेपाल समुदायों की अलग-अलग वेशभूषा है पुरुषों का पहनावे की बनावट खुरदरी और ज्यादा समय तक चलने के योग्य होती है।  पुरुष शर्ट, शंवो, टोपी पहनते हैं। अन्य समूह के लोग चूड़ीदार पजामा शर्ट अस्कोट कलाई कोट पहनते हैं।

लेपचा समाज की महिला डूबीडम,गहने, नामचोड़, कंगन पहनती हैं।भूटान समाज की महिला रेशमी फुल बाजू का ब्लाउज, कुसैन जैकेट , टोपी शबचू, पहनती हैं। विवाहित महिला धारीवाला एप्रेन, पैंगडन पहनती है।

यहां के घर मुख्य रूप से बांस के ढांचे डालकर बनाए जाते हैं। और ऊंचे पहाड़ी क्षेत्रों में लकड़ी के घर बनाते हैं। यहां का मुख्य भोजन चाऊमीन, फाख्तू , ग्यायूक, मोमोज सूप के साथ मांस लोकप्रिय भोजन है। यहां पर सभी धर्मों के त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाए जाते हैं। नेपाली त्योहारों के साथ हिंदू त्योहार भी मनाए जाते हैं।

click here : Art Integrated Project Sikkim

सिक्किम की भाषा

सिक्किम में बहुत सी भाषाएं बोली जाती है यहां पर लोग नेपाली भाषा का इस्तेमाल बहुत करते है। इसलिए नेपाली प्रमुख भाषा है। दूसरी भाषा भूटिया है जो तिब्बती समूह से निकली है। और भाषाओं में लेपचा, शेरपा, लिम्बु भाषाओं को स्कूल में भी पढ़ाया जाता है।

सिक्किम राज्य पर्यटन क्षेत्र

सिक्किम के हरे-भरे जंगल, घाटियों और पर्वतों पहाड़ियों को सांस्कृतिक धरोहर माना गया है। शांति से भरपूर यह राज्य पर्यटकों को स्वर्ग जैसा लगता है।  यहां की सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सभी सुविधाओं का ख्याल रख रही है।

सिक्किम में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए  हिमालय सेंटर फॉर एडवेंचर टूरिज्म बनवाया गया है। जिससे यहां आने वाले लोग सिक्किम की जीवन शैली को समझे।

यहां पर बहुत से प्रसिद्ध मठ हैं। फोडोंग, फेन्सांग, रूमटेक, तोलूंग, प्रमुख मठ है। घाटियों के बीच में स्थित ठाकुर बाड़ी के नाम से प्रसिद्ध हिंदू मंदिर भी है। गंगतोक पर्यटकों के लिए देखने के लिए बहुत अच्छा स्थान है। यहां पर पर्यटकों को देखने के लिए एक पवित्र गुफा है। जिसमें जगमगाता शिवलिंग स्थित है।

सिक्किम में गर्म पानी के बहुत सारे झरने हैं। महत्वपूर्ण झरनें युमथांग, वोरॉग , रालांग प्रमुख है। इन झरनों का तापमान 45 से 50 डिग्री तक हो जाता है।

सिक्किम में खेल

यहां के लोग फुटबॉल और क्रिकेट खेलना बहुत पसंद करते हैं। फूटबाल यहाँ का सबसे लोकप्रिय खेल है।  भारत के पूर्व फूटबाल टीम के कप्तान बाइचुंग भुटिया भी सिक्किम राज्य से जुड़े हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.