Delhi Sarkari School Coding की शुरुआत

Delhi Sarkari School में कंप्यूटर शिक्षा पर ज़ोर देते हुए Hindustan Times के साथ मिलकर delhi sarkar ne एक Computer coding Programme HT CODEATHON की शुरुआत की है। जिसके तहत Delhi ke Sarkari School में कक्षा 6th से ही बच्चों को कंप्यूटर coding के बारे में बताया जाएगा।

हाल में ही केंद्र सरकार द्वारा लागू की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में भी बच्चों को 6th क्लॉस से कंप्यूटर कोडिंग  (Computer Coding) सिखाने का प्रावधान किया गया है।

Coding क्या है।

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक्स मशीन है।  यह मशीन लाखों Calculation कुछ ही सेकंड्स में Perform कर सकता है। लेकिन कंप्यूटर अकेले कोई भी Task  नहीं कर सकता। कंप्यूटर किसी भी Task को कमांड (Instruction) मिलने पर ही परफॉर्म करता है।

कंप्यूटर Hindi और English जैसी भाषाओ को नहीं समझता कंप्यूटर केवल बाइनरी भाषा (Binary Language)  0 और 1 को समझता है।

जो भी Instruction हम कंप्यूटर को देते है कंप्यूटर उसी के हिसाब से काम करता है और इन्ही Instruction के समूह को Programming Language  (Coding) कहा जाता है। और जो Programming Language का इस्तेमाल करके कंप्यूटर के लिए सॉफ्टवेयर बनाता है। उसे Programmer कहा जाता है।

सभी वेबसाइट , सॉफ्टवेयर , मोबाइल APP को Coding का इस्तेमाल करके ही बनाये जाते है।

यहाँ पढ़े : Delhi Police Vacancy (दिल्ली पुलिस कैसे जॉइन करे।)

Delhi sarkari school : Coding का महत्व

Delhi sarkari school में लागू coding programme का लक्ष्य बच्चों के अंदर कंप्यूटर शिक्षा को बढ़ावा देना है। और साथ में बच्चों के अंदर सोचने समझने की शक्ति को बढावा देना है  To Development of Logical Thinking , Problem Solving , Critical Thinking Skill .

“Everyone should learn computer coding , because it teaches you how to think ”  Apple कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स

बच्चों को कंप्यूटर की बेसिक जानकारी के साथ साथ कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के बारे में भी बताया जायेगा।

घर बैठे जरुरी सामान मॅगाने से लेकर बच्चों की पढ़ाई तक में मोबाइल और इंटरनेट एक जरुरत किस हद तक है यह हम सभी को भलीभांति पता है। अब हर कंपनी अपना बिज़नेस बढ़ाने के लिए ऑनलाइन और मोबाइल एप्प का सहारा ले रही है।

इन सभी बातो को देखते हुए भारत में Web Development, Software development, App Development के क्षेत्र में में करियर के लिए बेहतर संभावनाएं पैदा की है।

कंप्यूटर क्षेत्र में सबसे अधिक माँग :

  • Gaming App
  • Web Development
  • Banking App
  • Education App
  • Online Shopping App
  • Health App
  • Hotel Booking App

जैसे बहुत से area है जिसमे कंप्यूटर प्रोग्रामर की माँग तेजी से बढ़ रही है।  जिसका लाभ उठाकर युवा कंप्यूटर के क्षेत्र में अपना करियर की शुरुआत कर सकते है।

Computer Software बनने के लिए Qualification

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने लिए Physics , Maths , Computer विषयो के साथ 12 वी कक्षा पास करना अनिवार्य है। लेकिन आजकल ऐसा  कई जगह देखा गया है की कंप्यूटर के क्षेत्र में जॉब्स के लिए डिग्री से ज़्यादा आपको सॉफ्टवेयर Development की Practical Knowledge होना जरुरी है।

इसलिए ऐसे विद्यार्थी जो Software Development , App Development , Computer Programming में करियर बनाना चाहते है , उन्हें शुरुआत से ही कंप्यूटर की अच्छी जानकारी हासिल करने में जुट जाना चाहिए।

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजिनियर बनने के लिए आप B-TECH , BCA  , MCA जैसे डिग्री कोर्स कर सकते हो।

इसके अलावा कंप्यूटर क्षेत्र में कई तरह के डिप्लोमा कोर्स भी उपलब्ध है , जिनसे कोडिंग Coding सीखी जा सकती है।

इस क्षेत्र में व्यक्ति की कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की जानकारी के अलावा उसका Experience सबसे ज्यादा मायने रखता है।

Coding से बेहतर कमाई

कंप्यूटर Programmer के क्षेत्र में प्रवेश करने वाले नए इंजीनियर को शुरुआती तौर पर प्राय: पांच से सात लाख रूपए सालाना वेतन मिलता है। लेकिन अगर आप में योग्यता है तो सिर्फ दो – तीन साल के अनुभव के बाद वे 9 लाख से 15 लाख रुपये या इससे अधिक सालाना वेतन आसानी से अर्जित कर सकते है।

याद रखें की इस प्रोफेशन में योग्यता (Education ), अनुभव (Experience )और Expertize की महत्वपूर्ण भूमिका है , जो इंजिनियर की कमाई तय करने में अहम् भूमिका निभाते है।

 

दोस्तों आपको यह ब्लॉग कैसा लगा आप हमें ईमेल के द्वारा जरूर बतायें। 

अगर आप भी कंप्यूटर के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हो हमें जरूर लिखे। 

 

3 thoughts on “Delhi Sarkari School Coding की शुरुआत”

Leave a Comment